Crime – जेई समेत सात के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज करने का आदेश

ख़बर सुनें

बदायूं। सीजेएम नवनीत कुमार भारती ने संविदा लाइनमैन की मौत के मामले में जेई, एसएसओ, लाइनमैन समेत सात लोगों के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर विवेचना करने का आदेश दिया है।
मूसाझाग थाना क्षेत्र के गांव मनिकापुर सरौरा निवासी रामवीर पुत्र मोहनलाल ने 11 फरवरी 2021 को 156 (3) सीआरपीसी के तहत परिवाद दायर किया था। रामवीर के अनुसार घटना से चार साल पहले उसके भाई संजीव कुमार को अमित कुमार एसएसओ विद्युत उपखंड गुलड़िया, लाइनमैन सतीश कुमार उर्फ हाकिम और बादाम सिंह पुत्र श्रीराम निवासी तिगुलापुर थाना मूसाझाग ने संविदा पर लाइनमैन के पद पर लगाया था।
आरोप है कि परिवादी के भाई संजीव कुमार का गांव के रामपाल पुत्र सोहन, देवेंद्र पुत्र रामपाल नत्थू पुत्र महेंद्र निवासी गांव मनिकापुर से खेत को लेकर विवाद हो गया। तभी से रामपाल, देवेंद्र और नत्थू ने संजीव को धमकी दी थी कि उसे छह महीने में जान से मार देंगे।
इन तीनों का उठना बैठना इन बिजली विभाग के लोगों के साथ था। 28 जनवरी 2021 को लाइनमैन सतीश कुमार उर्फ हाकिम, बादाम सिंह, एसएसओ अमित कुमार और जेई नेम कुमार ने संजीव से कहा कि महावीर का ट्यूबवेल खराब है जाकर सही कर दो। संजीव कुमार महावीर के ट्यूबेल पर पहुंचा और उसने कॉल करके लाइन शटडाउन करा दी। संजीव कुमार फाल्ट ठीक करने के लिए खंभे पर चढ़ गया। आरोप है रामपाल, देवेंद्र और नत्थू ने एसएसओ अमित कुमार, लाइनमैन सतीश कुमार उर्फ हाकिम, बादाम सिंह और जेई नेम कुमार के साथ साठगांठ और आर्थिक लेनदेन करके लाइनमैन सतीश कुमार के फोन से संजीव को कॉल की और उससे पूछा कि वह खंभे पर तार जोड़ रहा है, जब जानकारी मिली कि वह फाल्ट ठीक कर रहा है तभी लाइन चालू कर दी गई। इससे संजीव कुमार की पोल पर करंट लगने से मौके पर ही मृत्यु हो गई। पुलिस ने रिपोर्ट नहीं लिखी और परिवादी पर फैसले का दबाव बनाया।
सीजेएम नवनीत कुमार भारती ने परिवादी के अधिवक्ता की बहस सुनने के बाद रामपाल, देवेंद्र, नत्थू, लाइनमैन सतीश कुमार उर्फ हाकिम, लाइनमैन बादाम सिंह, एसएसओ अमित कुमार, जेई वितरण उपखंड गुलड़िया नेम कुमार के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर विवेचना करने का आदेश दिया है। संवाद

बदायूं। सीजेएम नवनीत कुमार भारती ने संविदा लाइनमैन की मौत के मामले में जेई, एसएसओ, लाइनमैन समेत सात लोगों के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर विवेचना करने का आदेश दिया है।

मूसाझाग थाना क्षेत्र के गांव मनिकापुर सरौरा निवासी रामवीर पुत्र मोहनलाल ने 11 फरवरी 2021 को 156 (3) सीआरपीसी के तहत परिवाद दायर किया था। रामवीर के अनुसार घटना से चार साल पहले उसके भाई संजीव कुमार को अमित कुमार एसएसओ विद्युत उपखंड गुलड़िया, लाइनमैन सतीश कुमार उर्फ हाकिम और बादाम सिंह पुत्र श्रीराम निवासी तिगुलापुर थाना मूसाझाग ने संविदा पर लाइनमैन के पद पर लगाया था।

आरोप है कि परिवादी के भाई संजीव कुमार का गांव के रामपाल पुत्र सोहन, देवेंद्र पुत्र रामपाल नत्थू पुत्र महेंद्र निवासी गांव मनिकापुर से खेत को लेकर विवाद हो गया। तभी से रामपाल, देवेंद्र और नत्थू ने संजीव को धमकी दी थी कि उसे छह महीने में जान से मार देंगे।

इन तीनों का उठना बैठना इन बिजली विभाग के लोगों के साथ था। 28 जनवरी 2021 को लाइनमैन सतीश कुमार उर्फ हाकिम, बादाम सिंह, एसएसओ अमित कुमार और जेई नेम कुमार ने संजीव से कहा कि महावीर का ट्यूबवेल खराब है जाकर सही कर दो। संजीव कुमार महावीर के ट्यूबेल पर पहुंचा और उसने कॉल करके लाइन शटडाउन करा दी। संजीव कुमार फाल्ट ठीक करने के लिए खंभे पर चढ़ गया। आरोप है रामपाल, देवेंद्र और नत्थू ने एसएसओ अमित कुमार, लाइनमैन सतीश कुमार उर्फ हाकिम, बादाम सिंह और जेई नेम कुमार के साथ साठगांठ और आर्थिक लेनदेन करके लाइनमैन सतीश कुमार के फोन से संजीव को कॉल की और उससे पूछा कि वह खंभे पर तार जोड़ रहा है, जब जानकारी मिली कि वह फाल्ट ठीक कर रहा है तभी लाइन चालू कर दी गई। इससे संजीव कुमार की पोल पर करंट लगने से मौके पर ही मृत्यु हो गई। पुलिस ने रिपोर्ट नहीं लिखी और परिवादी पर फैसले का दबाव बनाया।

सीजेएम नवनीत कुमार भारती ने परिवादी के अधिवक्ता की बहस सुनने के बाद रामपाल, देवेंद्र, नत्थू, लाइनमैन सतीश कुमार उर्फ हाकिम, लाइनमैन बादाम सिंह, एसएसओ अमित कुमार, जेई वितरण उपखंड गुलड़िया नेम कुमार के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर विवेचना करने का आदेश दिया है। संवाद