Crime – सुपरवाइडर की मौत पर हंगामा, मुआवजा मांगा

फैक्टरी के मैनेजर से वार्ता करते बिछिया ब्लॉक प्रमुख नीरज गुप्ता। संवाद
– फोटो : UNNAO

ख़बर सुनें

सोनिक। फैक्टरी जाते समय रास्ते में तबियत बिगड़ने से सुपरवाइजर की मौत हो गई। परिजनाें ने मुआवजे की मांग कर कानपुर-लखनऊ हाईवे पर मिर्जा फैक्टरी के गेट पर शव रखकर हंगामा किया। पुलिस के समझाने पर भी परिजन नहीं माने। बिछिया ब्लॉक प्रमुख ने फैक्टरी प्रबंधन से बात की तो वह दो लाख रुपये आर्थिक मदद और पत्नी को पेंशन देने की बात कही। इसके बाद परिजन शांत हुए और शव लेकर घर चले गए। हंगामा करीब चार घंटे चला।
फतेहपुर चौरासी थाना क्षेत्र के भड़सर नौसहरा ग्राम निवासी 35 वर्षीय सर्वेश शर्मा 12 वर्षों से शहर के आवास विकास कालोनी में किराये पर रहकर मिर्जा इंटरनेशनल में सुपरवाइजर की नौकरी करता था। बुधवार सुबह स्कूटी से फैक्टरी जा रहा था। अन्नपूर्णा मंदिर के पास अचानक तबियत बिगड़ने से वह गिर गया। आसपास के लोगों ने परिजनों को घटना की जानकारी देकर उसे जिला अस्पताल पहुंचाया। वहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। परिजन दोपहर तीन बजे शव लेकर फैक्टरी गेट पर पहुंचे और मुआवजे की मांग कर हंगामा शुरू कर दिया। दही थाना प्रभारी गौरव कुमार ने परिजनों को समझाने की कोशिश की पर वह नहीं माने। बिछिया ब्लॉक प्रमुख नीरज गुप्ता ने मैनेजर नरेंद्र कुमार से वार्ता की। इस पर मैनेजर की ओर से 1.75 लाख की चेक व 25 हजार रुपये अंतिम संस्कार के लिए पत्नी बिटान को दिए गए। मैनेजर ने मृतक के दो बच्चों अमन व नैंसी को 3500 रुपये महीने पेंशन व पत्नी को 6800 रुपये पेंशन देने की बात कही। परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने का भी भरोसा दिया। इस पर परिजन शांत हो शाम सात बजे शव लेकर वहां से चले गए।

सोनिक। फैक्टरी जाते समय रास्ते में तबियत बिगड़ने से सुपरवाइजर की मौत हो गई। परिजनाें ने मुआवजे की मांग कर कानपुर-लखनऊ हाईवे पर मिर्जा फैक्टरी के गेट पर शव रखकर हंगामा किया। पुलिस के समझाने पर भी परिजन नहीं माने। बिछिया ब्लॉक प्रमुख ने फैक्टरी प्रबंधन से बात की तो वह दो लाख रुपये आर्थिक मदद और पत्नी को पेंशन देने की बात कही। इसके बाद परिजन शांत हुए और शव लेकर घर चले गए। हंगामा करीब चार घंटे चला।

फतेहपुर चौरासी थाना क्षेत्र के भड़सर नौसहरा ग्राम निवासी 35 वर्षीय सर्वेश शर्मा 12 वर्षों से शहर के आवास विकास कालोनी में किराये पर रहकर मिर्जा इंटरनेशनल में सुपरवाइजर की नौकरी करता था। बुधवार सुबह स्कूटी से फैक्टरी जा रहा था। अन्नपूर्णा मंदिर के पास अचानक तबियत बिगड़ने से वह गिर गया। आसपास के लोगों ने परिजनों को घटना की जानकारी देकर उसे जिला अस्पताल पहुंचाया। वहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। परिजन दोपहर तीन बजे शव लेकर फैक्टरी गेट पर पहुंचे और मुआवजे की मांग कर हंगामा शुरू कर दिया। दही थाना प्रभारी गौरव कुमार ने परिजनों को समझाने की कोशिश की पर वह नहीं माने। बिछिया ब्लॉक प्रमुख नीरज गुप्ता ने मैनेजर नरेंद्र कुमार से वार्ता की। इस पर मैनेजर की ओर से 1.75 लाख की चेक व 25 हजार रुपये अंतिम संस्कार के लिए पत्नी बिटान को दिए गए। मैनेजर ने मृतक के दो बच्चों अमन व नैंसी को 3500 रुपये महीने पेंशन व पत्नी को 6800 रुपये पेंशन देने की बात कही। परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने का भी भरोसा दिया। इस पर परिजन शांत हो शाम सात बजे शव लेकर वहां से चले गए।