data science course advantages: Career In Data Science: डाटा साइंस में करियर बनाने से पहले समझिए इस कोर्स के फायदे व नुकसान – advantages and disadvantages of pursuing data science course

हाइलाइट्स

  • डाटा साइंस में करियर बनाना है आसान
  • कोर्स के पहले जरूर जान लें इसके फायदे और नुकसान
  • जानें कितनी मिलेगी सैलरी

Advantages And Disadvantages Of Data Science Course: सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी की बढ़ती दुनिया के कारण डाटा साइंटिस्‍टों की मांग लगातार बढ़ती जा रही है। ऐसे में अगर आप भी डाटा साइंटिस्‍ट बनने के बारे में सोच रहे हैं, तो इसमें कोई बड़ी बात नहीं हो सकती, क्योंकि वर्तमान में एक डाटा साइंटिस्‍ट सीए और इंजीनियरों की तुलना में बहुत अधिक कमा रहे हैं। हालांकि डाटा साइंटिस्‍ट बनने के कई फायदे के साथ नुकसान भी है।

क्‍या है डाटा साइंस (What is Data Science)
डाटा किसी भी क्षेत्र के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है लेकिन केवल तभी, जब इसे ठीक प्रोसेस और विश्लेषित किया जाता है। यह बिग डाटा और डाटा के समान अवधारणा पर काम करता है। डाटा साइंस का कार्य यह होता है कि वह कोई भी प्रकार के डाटा से इनसाइट्स लेता है तथा उसके बारे में जानता है। डाटा साइंस में डाटा माइनिंग, मशीन लर्निंग, क्लस्टर एनालिसिस, डाटा रेंग्लिंग तथा लिनियर अलजेब्रा आदि से बड़ी मात्रा में डाटा निकाल सकते हैं। डाटा साइंस का उपयोग बड़ी कम्पनी या कोई स्टार्टअप उन सभी डाटा का इस्तेमाल करते हैं, जो उनके ग्राहको को बेहतर अनुभव करा सके।
इसे भी पढ़ें: Career In Horticulture: क्‍या है हॉर्टिकल्चर? जानें कैसे प्रकृति के लिए कर सकते हैं इस फील्ड में काम

डाटा सांइस के फायदे (Advantages of Data Science)

ज्‍यादा जॉब्‍स डिमांड
आज के समय में डाटा साइंस प्रोफेशनल्‍स् की काफी डिमांड है। इस क्षेत्र में लोगों के पास जॉब्‍स के कई ऑप्‍शन हैं। यह लिंक्डइन पर सबसे तेजी से बढ़ने वाली नौकरी है और 2026 तक 11.5 मिलियन रोजगार सृजित करने की भविष्यवाणी की गई है। यह डाटा साइंस को सबसे ज्‍यादा जॉब देने वाला प्‍लेटफार्म है।

मिलेगी हाई सैलरी
डाटा साइंस सबसे अधिक पे करने वाली जॉब्‍स में से एक है। माना जाता है कि एक डाटा साइंटिस्‍ट प्रतिवर्ष एक करोड़ रूपये तक कमा सकता है। जिसके कारण ही डाटा साइंस को एक अत्यधिक आकर्षक करियर विकल्प माना जाता है।

डाटा साइंस में सभी को मौके
बहुत कम लोग होते हैं जिनके पास डाटा साइंटिस्‍ट बनने के लिए सभी स्किल्‍स पहले से मौजूद होती हैं। हालांकि इसके बाद भी सभी को समान मौके मिलते है, क्‍योंकि डाटा साइंस बहुत बड़ा क्षेत्र है और इसमें बहुत सारे अवसर हैं। डाटा साइंस के क्षेत्र में मांग अधिक है और डाटा साइंटिस्‍टों की भारी कमी है।

डाटा साइंस व्‍यापक
डाटा साइंस का क्षेत्र काफी व्‍यापक है। इसका व्यापक रूप से स्वास्थ्य देखभाल, बैंकिंग, परामर्श सेवाओं और ई-कॉमर्स उद्योगों में उपयोग किया जाता है। डाटा साइंस एक बहुत ही बहुमुखी क्षेत्र है इसलिए आपको विभिन्न क्षेत्रों में काम करने का अवसर मिलेगा।
इसे भी पढ़ें:Courses After Graduation: म्यूजियोलॉजी में अच्छा स्कोप, जानें किस प्रोफाइल में मिलेगी कितनी सैलरी

डाटा साइंस के क्षेत्र में नुकसान (Disadvantages in the field of Data Science)

डाटा साइंस सामान्‍य शब्‍द
डाटा साइंस सुनने अच्‍छा भले ही लगे, लेकिन यह एक बहुत ही सामान्य शब्द है और इसकी कोई निश्चित परिभाषा नहीं है। डाटा साइंस का सटीक अर्थ लिखना बहुत कठिन है। इनकी विशिष्ट भूमिका उस क्षेत्र पर निर्भर करती है जिसमें कंपनी विशेषज्ञता प्राप्त करना चाहती है।

नहीं हासिल कर सकते डाटा साइंस में महारथ
यह एके ऐसा क्षेत्र है जिसमें सांख्यिकी, कंप्यूटर विज्ञान और गणित जैसे कई क्षेत्रों का मिश्रण है। इसलिए प्रत्येक क्षेत्र में महारथ हासिल करना और उन सभी में समान रूप से विशेषज्ञ होना संभव नहीं है।

डाटा गलत परिणाम दे सकता है
डाटा साइंटिस्‍ट का कार्य डाटा का विश्लेषण कर भविष्‍य की योजना तैयार करना है, लेकिन देखा गया है कि कई बार, दिए गए डाटा गलत हो जाते हैं। जिससे गलत परिणाम भी सामने आ सकते हैं, यह कमजोर प्रबंधन और रिसोर्सेज के खराब उपयोग के कारण भी विफल हो सकता है।

डाटा प्राइवेसी का बड़ा खतरा
आज के समय में सबसे बड़ा मुद्दा ग्राहकों की प्राइवेसी बनता जा रहा है। कई उद्योगों के लिए डाटा उनका ईंधन है। प्रचार व ई-कॉमर्स कंपनियां डाटा के आधार पर ग्राहकों के चुनाव का निर्णय लेती हैं। हालाँकि, इस प्रक्रिया में उपयोग किया गया डाटा कई बार ग्राहकों की गोपनीयता भंग कर देता है। क्लाइंट का व्यक्तिगत डाटा कंपनी को दिखाई देता है और कई बार सुरक्षा में चूक के कारण डाटा लीक हो सकता है।