Dewas News: कार की नबंर प्लेट बदलकर सुने मकानों में करते थे चोरी

Publish Date: | Wed, 06 Oct 2021 11:24 PM (IST)

देवास(नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोतवाली पुलिस ने शहर के कालानीबाग में दिनदहाड़े चोरी के मामले में पर्दाफाश किया है। घटना को गाजियाबाद की गैंग ने अंजाम दिया गया था। ये गैंग दिनदहाड़े पाश इलाकों में सूने मकान को निशाना बनाते थी। साथ ही किसी को शक ना हो इसलिए चोरी के बाद कार की नंबर प्लेट लेते थे। गैंग ने ग्वालियर और उज्जैन में चोरी की वारादातों को अंजाम दिया है। पुलिस ने गिरोह के एक सदस्य के दिल्ली से गिरफ्तार किया है। पुलिस ने उसके तीन अन्य साथियों को जल्द गिरफ्तार करने की बात कही है।

जांच में कई स्थानों पर सीसीटीवी फुटेज के दौरान एक कार नजर आई और उसके आधार पर पुलिस गैंग तक पहुंच गई।

बुधवार को कोतवाली थाना में सीएससी विवेकसिंह ने मामले का पर्दाफाश करते हुए बताया कि 22 सितंबर को कालानी बाग में अभय शर्मा के घर दिनदहाड़े चोरी की घटना हुई थी। जिसमें चार आरोपित सीसीटीवी कैमरे में कैद हुए थे। आरोपित ने घटना में आई10 कार का इस्तेमाल किया था।

पुलिस ने कई जिलों के टोल पर लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाले। इंदौर से लेकर उज्जैन और भोपाल के टोल से जानकारी निकाल गई। बार बार एक ही कार की जानकारी सामने आई थी। इसके आधार पर तफ्तीश को आगे बढ़ाया और आरोपित 28 वर्षीय मोहम्मद शाकिब पुत्र हाजी सरफराज निवासी इस्लामाबाद हाजी चौक मेरठ को दिल्ली से गिरफ्तार किया। आरोपित का हाल मुकाम काठपुलिया के पास दसना गाजियाबाद है। अन्य आरोपितों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। साथ ही चोरी का माल भी बरामद कर लिया जाएगा।

-फर्जी आईडी से होटलों में ठहरते थे आरोपित

पुलिस ने पर्दाफाश गैंग के आरोपित अलग-अलग शहरों में होटल में ठहरते थे और पाश इलाकों में सुने मकानों में चोरी करेत थे। आरोपित फर्जी आईडी बनाकर होटल में ठहरते थे। देवास में भी घटना के पहले गैंग होटल में फर्जी आईडी की जरिए रुकी थी। आरोपितों ने ग्वालियर व उज्जैन में भी चोरी की घटना को अंजाम दिया है।

-यहां से मिला सुराग

पुलिस को साथ ही मक्सी टोल से अहम सुराग मिले थे। आरोपित घटना को अंजाम देने के बाद मक्सी टोल से भी गुजरे थे। इसी मार्ग पर उन्होंने कुछ टोल से बचने के लिए

ग्रामीण इलाकों का भी सफर किया था, लेकिन कई टोल पर बार-बार आई10 कार नजर आई। जिसके आधार पर पुलिस ने तफ्तीश शुरू की और चोर गैंग तर पहुंच गई।

पर्दाफाश में इनकी अहम भूमिका रही

मामले के पर्दाफाश में कोतवाली थाना प्रभारी निरीक्षक उमराव सिंह, उप निरीक्षक पवन यादव, उप निरीक्षक हर्ष चौधरी, उप निरीक्षक राहुल पाटीदार, प्रधान आरक्षक मनोज पटेल, प्रधान आरक्षक रवि गरोड़ा, आरक्षक सुनील देथलिया,पवन पटेल, अंशु रणवीर, शिव प्रतापसिंह सेंगर (साइबर सेल) का सराहनीय योगदान रहा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local