ICC 1983 Cricket World Cup winner Yashpal Sharma dies of heart attack

कुछ दिन पहले ही बॉलीवुड के ट्रेजडी किंग दिलीप कुमार का निधन हुआ था। यशपाल शर्मा ने एक बार इंटरव्यू में कहा था कि यूसुफ खान उर्फ दिलीप कुमार का मुझे क्रिकेटर बनाने में बहुत बड़ा योगदान रहा है।

पूर्व भारतीय क्रिकेटर और 1983 विश्व कप विजेता यशपाल शर्मा का मंगलवार को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वह 66 साल के थे। उनके परिवार में पत्नी, दो पुत्रियां और एक पुत्र है। यशपाल के एक पूर्व साथी ने इसकी पुष्टि करते हुए पीटीआई से कहा, ‘हां, यशपाल हमारे बीच नहीं रहे। हमें अभी उनके परिवार से यह सूचना मिली।’

सूत्रों के अनुसार 13 जुलाई 2021 की सुबह की सैर से लौटने के बाद यशपाल बेहोश हो गए थे।  उन्हें तड़के दिल का दौरा पड़ा था। इसके बाद उनका निधन हो गया। यशपाल शर्मा ने भारत के लिए 37 टेस्ट और 42 एकदिवसीय मैच खेले थे। यशपाल शर्मा ने टेस्ट क्रिकेट में 1606 रन बनाए। इसमें उनके 2 शतक भी शामिल हैं। वह वनडे क्रिकेट में उनके नाम 89 रन दर्ज है। यशपाल शर्मा ने साल 1978 में पाकिस्तान के खिलाफ सियालकोट में खेले गए वनडे मैच से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया था।

उन्होंने अगले ही साल क्रिकेट का मक्का कहे जाने वाले लॉर्ड्स के मैदान पर इंग्लैंड के खिलाफ अपना पहला टेस्ट मैच खेला। उन्होंने अपना आखिरी वनडे 1985 में इंग्लैंड के खिलाफ चंडीगढ़ में खेला था। वहीं 1983 में वेस्टइंडीज के खिलाफ दिल्ली में आखिरी टेस्ट मैच खेला था।

यशपाल शर्मा 2000 के दशक के शुरुआती वर्षों में राष्ट्रीय चयनकर्ता भी रहे। वह उस चयन पैनल का हिस्सा थे, जिसने 2004 में महेंद्र सिंह धोनी को राष्ट्रीय टीम में पहला मौका दिया था। यशपाल 2011 विश्व कप में धोनी की अगुआई में में चैंपियन बनने वाली टीम का चयन करने वाले चयन पैनल का भी हिस्सा थे। इस बीच वह उस दौर के भी गवाह रहे, जब तत्कालीन कप्तान सौरव गांगुली और टीम के कोच ग्रेग चैपल के बीच 2006 में ठन गई थी। यशपाल ने तब गांगुली का पक्ष लिया था।

यशपाल शर्मा ने रणजी ट्रॉफी में हरियाणा और रेलवे समेत तीन टीमों का प्रतिनिधित्व किया। उन्होंने 160 मैच में 8933 रन बनाए। इसमें उनका उच्चतम स्कोर नाबाद 201 रन था। उन्होंने रणजी ट्रॉफी में 21 शतक लगाए थे। रिटायरमेंट के बाद वह भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई), पंजाब और हरियाणा क्रिकेट के साथ विभिन्न भूमिकाओं में शामिल रहे थे। उन्होंने कुछ वर्षों के लिए राष्ट्रीय चयनकर्ता के रूप में भी काम किया। साल 2008 में उन्हें फिर से पैनल में नियुक्त किया गया।

वरिष्ठ पत्रकार रजत शर्मा ने उनके निधन पर शोक जताया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, पूर्व क्रिकेटर यशपाल शर्मा के अचानक निधन की खबर सुनकर स्तब्ध हूं। 1983 में पहली बार इंडिया को वर्ल्ड कप जिताने वाली टीम के सदस्य, यशपाल जी कई साल से इंडिया टीवी के क्रिकेट एक्स्पर्ट थे। उनके जाने से क्रिकेट जगत को भारी नुक़सान हुआ है। विनम्र श्रद्धांजलि।

दिलीप कुमार की सिफारिश पर वर्ल्ड चैंपियन क्रिकेटर को मिली थी टीम इंडिया में एंट्री, कपिल शर्मा के शो में किया था खुलासा

भाजपा नेता आनंद कुमार झा ने ट्वीट कर कहा, 1983 विश्व कप में भारत को विश्व विजेता बनाने में अहम योगदान देने वाले क्रिकेट खिलाड़ी यशपाल शर्मा जी का निधन क्रिकेट जगत के लिए एक अपूरणीय क्षति है। उनके परिजन और समर्थकों के प्रति मेरी गहरी संवेदना। प्रभु दिवंगत आत्मा को सद्गति प्रदान करें।

वरिष्ठ खेल पत्रकार समीप राजगुरु ने भी उनके निधन पर शोक जताया है। उन्होंने ट्वीट में लिखा, शेयर करने के लिए बहुत ही दुखद समाचार… विश्व कप विजेता यशपाल शर्मा जी को आज सुबह एक बड़ा कार्डियक अरेस्ट हुआ…। ईश्वर चैंपियन खिलाड़ी की आत्मा को शांति दे।