IND W vs AUS W: टेस्ट में कमाल के बाद टीम इंडिया की नजरें टी20 सीरीज फतेह करने पर, हरमनप्रीत के आने से बढ़ी ताकत | India women vs Australia women t20I chance for buoyant Indian women’s team to finish Australian tour on a high

IND W vs AUS W: टेस्ट में कमाल के बाद टीम इंडिया की नजरें टी20 सीरीज फतेह करने पर, हरमनप्रीत के आने से बढ़ी ताकत

भारतीय महिला टीम का प्रदर्शन टी20 फॉर्मेट में अच्छा रहा है.

भारतीय महिला क्रिकेट टीम (Indian Women Cricket Team) ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 7 अक्टूबर से शुरू होने वाली तीन अंतरराष्ट्रीय टी20 मैचों की सीरीज में जीत दर्ज करके इस दौरे का सकारात्मक अंत करने की कोशिश करेगी. टीम इंडिया को कप्तान हरमनप्रीत कौर (Harmanpreet Kaur) के आने से ताकत मिली है. हरमनप्रीत अंगूठे की चोट के कारण वनडे सीरीज और डे नाइट टेस्ट मैच में नहीं खेल पाई थी लेकिन अब वह फिट हैं. इससे टीम इंडिया की बल्लेबाजी का आक्रामक पक्ष मजबूत हुआ है. युवा शेफाली वर्मा और स्मृति मांधना की सलामी जोड़ी शानदार फॉर्म में चल रही है. ऑस्ट्रेलियाई दौरे के आखिरी चरण के मैचों से पहले मांधना आत्मविश्वास से ओतप्रोत है. उन्होंने अभी कुछ दिन पहले ही अपना पहला टेस्ट शतक लगाया था. यह सीनियर बल्लेबाज निश्चित तौर पर उस लय को बरकरार रखना चाहेंगी हालांकि दोनों फॉर्मेट में बहुत अंतर है.

हरमनप्रीत की वापसी टीम के लिए अच्छा संकेत है लेकिन सभी की निगाह युवा शेफाली पर टिकी रहेंगी जो आक्रामक अंदाज में बल्लेबाजी करने के लिये जानी जाती है. इस दौरे के दौरान भारतीय टीम ने दिखाया कि वह कुछ समय के अंदर ही अलग-अलग फॉर्मेट से सांमजस्य बिठा सकती है. इससे वे गुलाबी गेंद से खेले गये टेस्ट में भी दबदबा बनाने में सफल रही. इससे पहले उसने वनडे में ऑस्ट्रेलिया का 26 जीत का अभियान थामा था.

रॉड्रिग्स को मिल सकता है मौका

हरमनप्रीत के लिए चोट बड़ा झटका था लेकिन अगले साल होने वाले वनडे विश्व कप से पहले उनके लिए यह टी20 सीरीज बेहद महत्वपूर्ण होगी. वह खेल के सबसे छोटे प्रारूप में मैच विजेता है और वह इन मैचों में कोई मौका नहीं गंवाना चाहेंगी. ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज शेफाली, मंधाना और हरमनप्रीत को निशाने पर रखेंगे जबकि युवा जेमिमा रॉड्रिग्स को अपनी फॉर्म हासिल करने के लिए एक और मौका मिलेगा. उन्होंने राष्ट्रीय टीम की तरफ से हाल में भले ही अनुकूल प्रदर्शन नहीं किया लेकिन इंग्लैंड में ‘द हंड्रेड’ में उन्होंने प्रभावशाली बल्लेबाजी की थी. ऑस्ट्रेलिया के उछाल वाले विकेट भी उनके खेल के अनुकूल हैं.

ऑस्ट्रेलिया के पास ऑलराउंडर्स की भरमार

ऑस्ट्रेलिया के पास कई ऑलराउंडर हैं जिससे वह इस प्रारूप में काफी मजबूत नजर आता है. लेकिन भारत उसे कड़ी चुनौती देने के लिये पूरी तरह से तैयार लगता है. भारत को टी20 में पिछले कुछ समय से अनुभवी गेंदबाज झूलन गोस्वामी की सेवाएं नहीं मिल रही हैं लेकिन मेघना सिंह, पूजा वस्त्राकर और शिखा पांडे जैसी गेंदबाजों ने अच्छा प्रदर्शन किया है. बल्लेबाजी में भारत की निगाहें मध्यक्रम में विकेटकीपर ऋचा घोष और यास्तिका भाटिया पर भी टिकी रहेंगी.

ऑस्ट्रेलिया की कप्तान मेग लैनिंग को उम्मीद होगी कि उनके ऑलराउंडर फिर से अंतर पैदा करने में सफल रहेंगे. ऑस्ट्रेलिया इस सीरीज में ऑलराउंडर ताहलिया मैक्ग्रा को भी पदार्पण का मौका दे सकता है जिन्होंने टेस्ट मैच में प्रभावशाली प्रदर्शन किया था. हाल की फॉर्म को देखते हुए अन्नाबेल सदरलैंड और निकोला कैरी के शानदार रिकॉर्ड को देखते हुए इन दोनों का भी अंतिम एकादश में जगह बनाने का दावा मजबूत है.

टीमें इस प्रकार हैं

भारत: हरमनप्रीत कौर (कप्तान), स्मृति मांधना (उप कप्तान), शेफाली वर्मा, जेमिमा रॉड्रिग्स, दीप्ति शर्मा, स्नेह राणा, यास्तिका भाटिया, शिखा पांडे, मेघना सिंह, पूजा वस्त्राकर, राजेश्वरी गायकवाड़, पूनम यादव, ऋचा घोष (विकेटकीपर), हरलीन देओल, अरुंधति रेड्डी, राधा यादव, रेणुका सिंह.

ऑस्ट्रेलिया: मेग लैनिंग (कप्तान), डार्सी ब्राउन, मैटलन ब्राउन, स्टेला कैंपबेल, निकोला कैरी, हन्ना डार्लिंगटन, एशले गार्डनर, एलिसा हीली, ताहलिया मैक्ग्रा, सोफी मोलिनक्स, बेथ मूनी, एलिस पैरी, जॉर्जिया रेडमायने, मौली स्ट्रानो, एनाबेल सदरलैंड, टायला व्लामिनक, जॉर्जिया वेयरहैम.

ये भी पढ़ें: IPL 2021 में प्लेऑफ नहीं इस बात की है रोचक लड़ाई, उलझी हुई हैं धोनी, कोहली और पंत की टीमें