India ASEAN Summit: भारत के वैश्विक आर्थिक जुड़ाव के लिए आसियान प्रमुख केंद्र, बोले विदेश मंत्री एस जयशंकर | ASEAN key center for India global economic engagement says External Affairs Minister S Jaishankar

India ASEAN Summit: भारत के वैश्विक आर्थिक जुड़ाव के लिए आसियान प्रमुख केंद्र, बोले विदेश मंत्री एस जयशंकर

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने गुरुवार को कहा कि आसियान भारत के वैश्विक आर्थिक जुड़ाव के प्रमुख केंद्रों में से एक है और नई दिल्ली दक्षिण पूर्व एशियाई ब्लॉक के साथ साझेदारी के लिए निर्धारित महत्वाकांक्षा के स्तर पर फिर से जाना चाहेगी. (File Photo)

विदेश मंत्री एस जयशंकर (External Affairs Minister S Jaishankar) ने गुरुवार को कहा कि आसियान भारत के वैश्विक आर्थिक जुड़ाव के प्रमुख केंद्रों में से एक है और नई दिल्ली दक्षिण पूर्व एशियाई ब्लॉक के साथ साझेदारी के लिए निर्धारित महत्वाकांक्षा के स्तर पर फिर से जाना चाहेगी. भारत-आसियान व्यापार शिखर सम्मेलन में बोलते हुए विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा कि आसियान के साथ भारत के संबंध इतिहास, भूगोल और संस्कृति में निहित हैं.

उन्होंने कहा कि हाल के सालों में उन्हें जो ऊर्जा मिली है, वो हमारे पारस्परिक हितों और विकास के लिए उनकी क्षमता के बारे में बढ़ती जागरूकता है. पिछले 25 सालों के दौरान हमारा सहयोग बढ़ने के साथ, सहयोग के लिए नए पहलू और डोमेन उभरे हैं. विदेश मंत्री ने कहा कि कोविड-19 महामारी ने इस बात की पृष्ठभूमि प्रदान की है कि कैसे अधिकांश देश अपनी दोनों आर्थिक नीतियों को अपनाते हैं और यहां तक ​​कि हमारे जीवन के तरीके को भी आकार देते हैं.

‘वैश्विक स्वास्थ्य प्रणाली में कई कमियों को सामने लाया कोविड-19’

पिछले दो सालों के लंबे संकट से चार क्षेत्र अंतरराष्ट्रीय व्यापार सहयोग के लिए तेजी से फोकस में आए हैं. जयशंकर ने कहा कि कोविड-19 ने वैश्विक स्वास्थ्य प्रणाली में कई कमियों को सामने लाया है. सार्थक साझेदारी, उन्नत तकनीकों को साझा करना, वैक्सीन और दवा उत्पादन में सहयोग, क्षमता निर्माण और स्वास्थ्य संबंधी जानकारी में पारदर्शिता सभी उत्तरों का हिस्सा हैं और इस सब में व्यवसायों की भूमिका महत्वपूर्ण है.

विदेश मंत्री ने कहा कि संकट अक्सर रचनात्मकता का आधार हो सकता है और हमारा प्रयास इस मजबूत से बाहर आने का होना चाहिए. कोविड-19 उत्पादन के क्षेत्र में भारत की तरफ से की गई प्रगति को रेखांकित करते हुए जयशंकर ने कहा कि हमारे वैश्विक सहयोग ने हमें दुनिया के लिए एक प्रमुख वैक्सीन उत्पादन केंद्र के रूप में उभरने में सक्षम बनाया है. वास्तव में हमने सहयोग के नवीन तरीकों को भी देखा है, जिसमें शामिल हैं क्वाड देशों की ओर से सहमत एक पहल.

ये भी पढ़ें- एस जयशंकर ने कोलंबिया की विदेश मंत्री मार्ता लूसिया रामिरेज से की मुलाकात, दोनों के बीच कई मुद्दों पर हुई बातचीत

ये भी पढ़ें- अफगानिस्तान को लेकर कई मुद्दों पर भारत और अमेरिका की सोच समान, बोले विदेश मंत्री एस जयशंकर