mining engineering jobs: Career Opportunities: कैसे बन सकते हैं Mining Engineer? जानें किस कोर्स के बाद मिलेगी बढ़िया सैलरी – mining engineering career jobs and courses

हाइलाइट्स

  • माइनिंग इंजीनियरिंग में हैं कई करियर ऑप्शन
  • यहां जानें माइनिंग इंजीनियरिंग के लिए कोर्स व योग्‍यता
  • जानें कहां से कोर्स करना रहेगा बेस्ट

Mining Engineering Jobs: इंडिया उन देशों में शामिल है जहां खनिज संपदा की कोई कमी नहीं है। यहां पर लौह अयस्क, निकिल से लेकर विभिन्न धातुओं, पेट्रोलियम व सोने एवं हीरे की भरपूर खदानें हैं। इन बहुमूल्य खनिजों को निकालने के लिए ट्रेंड माइनिंग इंजीनियर्स की सख्‍त जरूरत होती है। हमारे यहां ऐसे इंजीनियर्स की आज भी भारी कमी है। बुनियादी तौर पर माइनिंग इंजीनियर्स को माइनिंग की पूरी जानकारी दी जाती है।

माइनिंग इंजीनियरिंग क्‍या है (What Is Mining Engineering)
माइनिंग इंजीनियरिंग को इंजीनियरिंग की एक विशिष्ट शाखा कहा जा सकता है। जिसमें प्राकृतिक स्थितियों में गहरी खानों से बहुमूल्य खनिज को अत्यंत वैज्ञानिक और लागत प्रभावी तकनीकों से निकालने, एकत्रण करने, प्रसंस्करण और शुद्ध धातुओं के निष्कर्षण पर आधारित समुचित प्रशिक्षण दिया जाता है। हम कह सकते हैं कि माइनिंग इंजीनियरिंग के तहत पृथ्वी से कुदरती वातावरण में पर्यावरण के अनुकूल तकनीक से विविध धातु और बिन धातु खनिज की शोध और खनन करने में आता है। माइनिंग इंजीनियर्स ज्यादातर देश और विश्व की विविध माइनिंग कंपनियां और एसोसिएटेड संस्थाओं के लिए काम करते है और माइनिंग कंपनिया व संस्थाएं खनन संबधित तमाम काम के लिए उसकी तकनीकी समर्थन और निष्णांत अभिप्राय सेवाएं प्रदान करती है।

कोर्स व योग्‍यता (Mining Engineering Course and Qualification)
माइनिंग इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए 12वी कक्षा पास करने के बाद जेईई, जेईई मेंस, जेईई एडवांस व कैट जैसी प्रवेश परीक्षाएं पास करनी होती हैं, उसके बाद आप माइनिंग इंजीनियरिंग में प्रवेश लेने के लिए कोर्स में आवेदन कर सकते हो। माइनिंग इंजीनियर बनने के लिए आप डिप्लोमा इन माइनिंग इंजीनियरिंग या बेचलर ऑफ माइनिंग इंजीनियरिंग की डिग्री कर सकते हैं। इसमें डिप्लोमा इन माइनिंग इंजीनियरिंग, डिप्लोमा इन माइनिंग एंड सर्वेइंग, बेचलर ऑफ माइनिंग इंजीनियरिंग, बीई एंड बीटेक माइनिंग इंजीनियरिंग और इस क्षेत्र में एमटेक शामिल है।
इसे भी पढ़ें: SSC CPO Exam: एसएससी सीपीओ पेपर-2 की कर रहे हैं तैयारी? समझ लें पैटर्न और सिलेबस

कोर्स के साथ ट्रेनिंग जरूरी (Course Training required)
यह एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें ट्रेनिंग बहुत जरूरी है। इसकी ट्रेनिंग भी क्लासेज में ज्यादा न होकर माइन से संबंधित परिस्थितियों में करवाने पर अधिक जोर दिया जाता है। सिलेबस में मैथ्स, साइंस, इंजीनियरिंग ग्राफिक्स, सर्वेइंग, जियोलॉजी, माइनिंग इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स, सर्फेस माइनिंग, मेटाफेरस माइनिंग, मैकेनिकल ट्रेनिंग, ब्लास्टिंग टेक्नीक्स इन माइन, कंप्यूटर एप्लिकेशन इन माइनिंग लैब्स, मिनरल रिकवरी, माइंस मशीनरी आदि पर काफी ध्यान दिया जाता है।

माइनिंग इंजीनियर के लिए जरूरी स्किल्स (Skills Required for Mining Engineer)
माइंस में काम करने के प्रति रुझान
मेहनत करने में कोई परेशानी नहीं
लीडरशिप और श्रमिकों से काम करवाने की क्षमता
चुनौतीपूर्ण स्थितियों में किसी भी जोखिम का सामना करने को तैयार
माइनिंग की तकनीकी और वैज्ञानिक अपडेटेड जानकारी
मैथ्स और फिजिक्स जैसे विषयों में दिलचस्पी
इसे भी पढ़ें: Career After 12th: Behavior Science में बना सकते हैं बेहतर करियर, जानें कोर्स से जुड़ी सभी डीटेल्स

जॉब ऑप्‍शन (Job Options In Mining Engineering)
इस फील्‍ड में कोर्स पूरा करने के बाद माइनिंग सेक्टर से जुड़े संस्थानों में नौकरियों के अवसर तलाशे जा सकते हैं। इनमें ऑयल एवं मेटल कंपनियां, एक्स्ट्रेक्शन फर्म्स तथा धातु प्रसंस्करण से संबंधित कंपनियों का खासतौर पर उल्लेख किया जा सकता है। सरकारी क्षेत्र की माइनिंग कंपनियों में रोजगार के अवसर पाने की कोशिश भी इस क्रम में की जा सकती है। इस फील्ड में ग्रेजुएशन के बाद असिस्टेंट मैनेजर, आर एंड डी इंजीनियर, माइनिंग इंजीनियर, क्वॉलिटी टेक्नीशियन आदि के तौर पर जॉब्स के अवसर मिल जाते हैं। वहीं एकेडेमिक्स या टीचिंग में जाने के लिए कम से कम मास्टर्स डिग्री इसी विषय में करनी आवश्यक है।

कार्य अनुभव और खनन की लेटेस्ट टेक्नीक्स में माहिर होने के बाद स्टार्टअप के तौर पर लघु माइनिंग इकाइयों की शुरुआत की जा सकती है। माइनिंग इंजीनियरिंग के बाद कोल इंडिया लिमिटेड, टाटा स्टील, रियो टिनटो, वाइजैग स्टील, मोनेट इस्पात, वेदांता, एचजेडएल, एचसीएल, इलेक्ट्रोस्टील, द इंडियन ब्यूरो ऑफ माइनिंग, जियॉलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया, आईपीसीएल, नालको, अडानी माइनिंग प्राइवेट लिमिटेड जैसी कंपनियां में जॉब कर सकते हैं।

सैलरी
कोर्स पूरा करने के बाद कैंडिडेट्स शुरुआत में 4 से 5 लाख रुपये सालाना कमा सकते हैं। आप जैसे-जैसे इस फील्ड में पुराने होते जाएंगे वैसे-वैसे सैलरी भी बढ़ती जाएगी। इसी के साथ अगर आप रिसर्च कर रहे हैं तो ये इनकम और भी ज्यादा हो सकती है।

यहां से कर सकते हैं कोर्स (Mining Engineering Courses)

  1. इंडियन स्कूल ऑफ माइंस, धनबाद (Indian School of Mines, Dhanbad)
  2. बिरसा इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, धनबाद (Birsa Institute of Technology, Dhanbad)
  3. झारखंड राय यूनिवर्सिटी, रांची (Jharkhand Rai University, Ranchi)
  4. पोलिटेक्नीक, काठागुडम (Polytechnic, Kathagudam)
  5. संगम यूनिवर्सिटी, भीलवाड़ा (Sangam University, Bhilwara)