Murder Case Of His Wife On Crime Branch Inspector – क्राइम ब्रांच के दरोगा पर पत्नी की हत्या का केस दर्ज

ख़बर सुनें

लखनऊ। कृष्णानगर इलाके के एलडीए कॉलोनी सेक्टर-डी निवासी दरोगा आलोक यादव की पत्नी निशा की संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। इस मामले में मृतका केभाई ने दरोगा सहित चार के खिलाफ हत्या व धमकी की धारा में मुकदमा दर्ज कराया है। आरोप है कि दहेज में आलोक ने दस लाख रुपये मांगे थे। रकम न मिलने पर हत्या कर दी।
प्रभारी निरीक्षक कृष्णानगर आलोक कुमार राय के मुताबिक, कानपुर देहात निवासी दिग्विजय सिंह यादव की बहन निशा यादव की शादी 8 फरवरी 2014 को दरोगा आलोक यादव से हुई थी। दरोगा आलोक वर्तमान में लखनऊ के पश्चिमी जोन के क्राइम ब्रांच में तैनात है। वह परिवार के साथ एलडीए कालोनी सेक्टर डी में रहता है। 30 सितंबर की रात दरोगा की पत्नी निशा की संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। दरोगा ने पुलिस को बताया कि उसकी पत्नी ने फांसी लगाई थी। वहीं निशा केभाई दिग्विजय ने बताया कि शादी के एक साल बाद से ही बहनोई आलोक यादव, उसकेचाचा सर्वेश कुमार, रविंद्र, देवेंद्र दहेज में 10 लाख रुपये की मांग कर रहे थे।
निशा के विरोध करने पर उसके साथ मारपीट की जाती थी। इस मांग के पूरा न होने के चलते निशा की हत्या कर दी गई। दिग्विजय की तहरीर पर अब पुलिस ने दरोगा आलोक यादव और उनके तीन चाचाओं के खिलाफ हत्या और धमकी देने का मुकदमा दर्ज किया गया है। पीड़ित का आरोप है कि घटना के बाद से आरोपित मुकदमा न लिखवाने के लिए उसको धमका रहे थे। वहीं प्रभारी निरीक्षक कृष्णानगर के मुताबिक, निशा की पीएम रिपोर्ट में फांसी लगाने की पुष्टि हुई थी। अब हत्या का मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है।

लखनऊ। कृष्णानगर इलाके के एलडीए कॉलोनी सेक्टर-डी निवासी दरोगा आलोक यादव की पत्नी निशा की संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। इस मामले में मृतका केभाई ने दरोगा सहित चार के खिलाफ हत्या व धमकी की धारा में मुकदमा दर्ज कराया है। आरोप है कि दहेज में आलोक ने दस लाख रुपये मांगे थे। रकम न मिलने पर हत्या कर दी।

प्रभारी निरीक्षक कृष्णानगर आलोक कुमार राय के मुताबिक, कानपुर देहात निवासी दिग्विजय सिंह यादव की बहन निशा यादव की शादी 8 फरवरी 2014 को दरोगा आलोक यादव से हुई थी। दरोगा आलोक वर्तमान में लखनऊ के पश्चिमी जोन के क्राइम ब्रांच में तैनात है। वह परिवार के साथ एलडीए कालोनी सेक्टर डी में रहता है। 30 सितंबर की रात दरोगा की पत्नी निशा की संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। दरोगा ने पुलिस को बताया कि उसकी पत्नी ने फांसी लगाई थी। वहीं निशा केभाई दिग्विजय ने बताया कि शादी के एक साल बाद से ही बहनोई आलोक यादव, उसकेचाचा सर्वेश कुमार, रविंद्र, देवेंद्र दहेज में 10 लाख रुपये की मांग कर रहे थे।

निशा के विरोध करने पर उसके साथ मारपीट की जाती थी। इस मांग के पूरा न होने के चलते निशा की हत्या कर दी गई। दिग्विजय की तहरीर पर अब पुलिस ने दरोगा आलोक यादव और उनके तीन चाचाओं के खिलाफ हत्या और धमकी देने का मुकदमा दर्ज किया गया है। पीड़ित का आरोप है कि घटना के बाद से आरोपित मुकदमा न लिखवाने के लिए उसको धमका रहे थे। वहीं प्रभारी निरीक्षक कृष्णानगर के मुताबिक, निशा की पीएम रिपोर्ट में फांसी लगाने की पुष्टि हुई थी। अब हत्या का मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है।