World Heart Day 2021: इन पांच बातों का रखें ख्याल, कोरोना में भी स्वस्थ रहेगा आपका दिल – World heart day five tips to keep your heart healthy during covid

World Heart Day 2021: कोविड-19 यानी कोरोना (Corona) का दौर अभी थमा नहीं है. ऐसे में बुधवार 29 सितंबर को विश्व हृदय दिवस (World Heart Day) के रूप में मनाया जा रहा है. खासतौर पर यदि आपको हृदय रोग यानी दिल से जुड़ी बीमारियां हों तो कोविड-19 (Covid-19) आपके लिए प्राण घातक साबित हो सकता है. यदि आपको कोरोनरी धमनी रोग, हाई ब्लड प्रेशर और हार्ट फेलियर जैसी समस्याएं पहले से हैं तो आपको कोरोना महामारी को लेकर बहुत ज्यादा सचेत रहने की जरूरत है.Also Read – दो दिन से फिर डरा रहे कोरोना संक्रमण के मामले, अकेले केरल से आ रहे 60 प्रतिशत संक्रमित मरीज

जायला हेल्थ के सीनियर कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. करन चोपड़ा कहते हैं – हमारे पास लोग हाई ट्राइग्लिसराइड्स, हाई कोलेस्ट्रॉल और हाइपरटेंशन जैसी समस्याओं को लेकर आते हैं, जिनके कारण दिल को खतरा होता है. जो लोग इन समस्याओं के साथ आते हैं, उनमें से ज्यादातर लोग फिजिकल एक्टिवटी नहीं करते हैं, तनाव में रहते हैं और अधिक वजन के कारण भी इन समस्याओं का सामना करते हैं. शुरुआत में भले ही यह स्वास्थ्य समस्याएं मामूली लगें, लेकिन धीरे-धीरे यह दिल की धमनियों को नुकसान पहुंचाने लगती हैं. Also Read – Coronavirus cases In India: देश के 18,718 लोग 24 घंटे में हुए संक्रमित, अकेले केरल से सामने आए 12,161 मामले

आज जब 29 सितंबर को वर्ल्ड हार्ट डे मनाया जा रहा है तो हम आपको सिर्फ पांच ऐसी बातें बताएंगे जिन्हें अगर आप अपनाएंगे तो कोविड पैंडेमिक के दौरान आपका दिल खुश और सुरक्षित रहेगा. Also Read – ड्राइविंग लाइसेंस, आरसी समेत वाहनों के डाक्‍यूमेंट के नवीनीकरण में बड़ी राहत, इस डेट तक करा सकेंगे रिन्‍यूअल

दिल दुरुस्त रखने के पांच मंत्र

  1. नियमति कार्यों को करते रहें – दुनियाभर की सरकारें और स्वास्थ्य संगठन लगातार कह रहे हैं कि हमें कोरोना के साथ जीना सीखना होगा. पिछले लगभग 2 साल में काफी हद तक हमने कोविड-19 के साथ जीना सीख भी लिया है. यदि बाहर निकलना बेहद जरूरी न हो तो घर पर ही रहें. सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और सैनिटाइजेशन का भी ध्यान रखें. अपने आसपास उचित साफ-सफाई बनाए रखें और समस्या महसूस होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें.
  2. स्वस्थ भोजन, योग-व्यायाम और वॉक जारी रखें – हार्ट पेशेंट के लिए यह बेहद जरूरी है कि वे अपनी स्वस्थ और संतुलित जीवनशैली को बनाए रखें. नियमित तौर पर डॉक्टर द्वारा सुझाई गई एक्सरसाइज और योग का अभ्यास करें. अपनी तरफ से कोई भी नई एक्सरसाइज न करें. वॉक पर जा सकते हैं. पैरों को स्ट्रैच करें और बैठे रहने की बजाय बीच-बीच में उठकर घर में ही दो चक्कर लगा लें. जायला हेल्थ के सीनियर कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. करन चोपड़ा कहते हैं कि कम से 30 मिनट की फिजिकल एक्टिविटी नियमित तौर पर करें. घर पर बना स्वस्थ भोजन ग्रहण करें. अपने भोजन में कम फैट वाला प्रोटीन लें. इसके लिए आप चिकन और सी-फूड का सेवन कर सकते हैं. ताजे फल, सब्जियां, साबुत अनाज और ड्राइ-फ्रूट्स का सेवन कर सकते हैं. इसके अलावा अपने ब्लड प्रेशर को नियमित तौर पर मॉनिटर करें.
  3. अस्पताल जाने की बजाए ऑनलाइन कंसल्टेशन लें – पिछले दो साल में हम सभी ने वर्क फ्रॉम होम और बच्चों की ऑनलाइन क्लास के साथ ही ऑनलाइन कंसल्टेशन का भी भरपूर इस्तेमाल किया है. ज्यादातर डॉक्टर भी अब ऑनलाइन कंसल्टेशन देने को तवज्जो देने लगे हैं. फोन या वीडियो कॉल के जरिए मरीज की समस्याओं को समझकर डॉक्टर उनका निदान और उपचार करते हैं. जब तक कोविड-19 पूरी तरह से खत्म नहीं हो जाता, तब तक आप अपने डॉक्टर से ऑनलाइन कंसल्टेशन के लिए संपर्क कर सकते हैं.
  4. दवाएं लेना याद रखें – भले कुछ भी हो जाए, आपको अपने डॉक्टर की सलाह के बिना कोई भी दवा लेना नहीं छोड़ना है. खासतौर पर हाई ब्लड प्रेशर की दवाएं लेना हमेशा याद रखें. यह भी याद रखें कि जिन दवाओं को आपका डॉक्टर सुझाए, सिर्फ उन्हीं दवाओं को लें, अपनी मर्जी से कोई भी दवा लेना शुरू न कर दें. दिल की किसी भी बीमारी से ग्रसित हैं तो नियमित तौर पर डॉक्टर से संपर्क करें और डॉक्टर के मना करने तक इनका सेवन जारी रखें. सीनियर कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. करन चोपड़ा का कहना है कि युवाओं को भी अपना लिपिड प्रोफाइल साल में कम से कम एक बार जरूर चेक करवाना चाहिए और हर माह ब्लड प्रेशर की जांच भी करवाएं.
  5. डॉक्टर की मदद कब लें – आप अपने शरीर और अपनी तकलीफ को सबसे ज्यादा समझते हैं. इसलिए कब डॉक्टर की मदद लेनी चाहिए, ये भी आप अच्छे से समझते हैं. सीनियर कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. करन चोपड़ा के अनुसार अगर आपके परिवार में कभी भी किसी को हार्ट अटैक आया है या आप बीपी, कोलेस्ट्रॉल, ट्राइग्लिसराइड व मोटापे के शिकार हैं तो आपको डॉक्टर के पास जाकर नियमित तौर पर जांच करवानी चाहिए. अगर आप हार्ट पेशेंट हैं तो, निम्न में से कोई भी लक्षण कोविड-19 के लक्षण हो सकते हैं और आपको सचेत हो जाना चाहिए, तुरंत इलाज शुरू करवाना चाहिए.
    बुखार आना
    ठंड लगना
    सूखी खांसी होना
    सांस लेने में दिक्कत होना
    मांसपेशियों में दर्द होना
    सूंघने की क्षमता कम होना
    खाने में स्वाद न आना
    जी मिचलाना, उल्टी और डायरिया जैसी पेट की समस्याएं भी हो सकती हैं
    चलने-फिरने के दौरान सीने में दर्द होना या दबाव महसूस होना
    चेहरे का एक तरफ का हिस्सा अचानक लटक जाना
    शरीर के एक हिस्से का सुन्न हो जाना
    हाथ में कमजोरी महसूस होना
    नजर कम लगना या धुंधला दिखना
    बोलते समय लड़खड़ाना